Header Ads Widget

Responsive Advertisement

संरक्षण योजना वी केयर गरीब बेसहारों के लिये बनी मददगार -- मनोज द्विवेदी, राष्ट्रीय स्तर पर बन सकता है रोल मॉडल

अनूपपुर -17 अप्रैल 


 कोरोना संक्रमण से बचने के लिये लागू राष्ट्रीय स्तर पर लाकडाऊन के दौरान गरीब -  बेसहारा वर्ग का संरक्षण सरकार एवं प्रशासन के लिये बड़ी चुनौती  है। पीडीएस एवं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के द्वारा गरीबों को 3+1 माह हेतु चावल प्रदान किया गया है। लेकिन सिर्फ चावल देने मात्र से ही परिवार नहीं चल सकते । ना सूखा चावल खाया जा सकता है , ना ही रोज कमाने - रोज खाने वाले घर जा बैठे व्यक्ति के पास इतना पैसा कि वह आटा, तेल, दाल,शक्कर, साबुन जैसी दैनिक आवश्यकता की वस्तुएँ खरीद सके। कुछ समाज सेवी संगठन, जनप्रतिनिधियों ने भी कच्चा, पक्का भोजन बांटने का कार्य किया है। लेकिन वह पर्याप्त कदापि नहीं है। इस हेतु समय - समय पर मेरे द्वारा तथा अन्य लोगों द्वारा जिला प्रशासन, राज्य सरकार तथा सक्षम जनप्रतिनिधियों का ध्यानाकर्षण किया गया। उपर्युक्त विचार व्यक्त करते हुए भाजपा नेता एवं जय भारत मंच के जिलाध्यक्ष मनोज द्विवेदी ने कहा है कि खुशी है कि शहडोल सांसद श्रीमती हिमाद्री सिंह, अनूपपुर कलेक्टर श्री चन्द्रमोहन ठाकुर ने गरीब , बेसहारा वर्ग की इस समस्या पर ध्यान देते हुए उनके लिये " संरक्षण योजना " / वी केयर का शुभारंभ  पूर्व विधायक श्री रामलाल रॊतेल, श्री दिलीप जायसवाल, पूर्व अजजा आयोग अध्यक्ष श्री नरेंद्र मरावी, जिलाध्यक्ष बृजेश गौतम तथा जिले के अन्य अधिकारियों की उपस्थिति मे किया।
लाक डाउन के दौरान गरीब ,बेसहारा वर्ग को संरक्षण की सख्त जरुरत है। वी केयर  योजना के तहत ज़िला प्रशासन द्वारा बेसहारा वर्ग एवं अत्यंत गरीब परिवारों का चयन कर उन्हें स्वच्छता एवं खाद्य सामग्री का किट वितरित किया जा रहा है । इस प्रयास के माध्यम से गरीब बेसहारा वर्ग को संरक्षण प्राप्त होगा।  साथ ही समाज में कोरोना संक्रमण से सुरक्षा हेतु अपेक्षित आचरण एवं सावधानियाँ बरतने की जागरूकता का भी प्रसार होगा।
 उल्लेखनीय है कि प्रारम्भिक तौर में अनूपपुर ज़िले में 5000 परिवारों को लाभान्वित किया जाएगा। इसके लिये  पुष्पराजगढ़ में 2500 किट, जैतहरी में 1200 किट, अनूपपुर में 800 किट एवं कोतमा विकासखंड में 500 किट का वितरण किया जाएगा। बतला दें कि योजना के क्रियान्वयन हेतु सांसद हिमाद्रि सिंह की पहल पर एसईसीएल द्वारा 25 लाख रुपए की राशि प्रदान की गयी है।
साथ ही अनूपपुर ज़िले के समाजसेवियों एवं जागरूक नागरिकों द्वारा अनूपपुर आपदा राहत कोष में प्रदान की गयी राशि का प्रयोग इस योजना के क्रियान्वयन हेतु किया जाएगा।
प्रत्येक किट में 1 नहाने का साबुन, 1 हाथ धोने का साबुन, 1 किलो डिटर्जेंट, 180 मिली सैनिटाईज़र की बॉटल, 100 ग्राम ब्लीचिंग पाउडर तथा 4 मास्क दिए जाएँगे। इसके साथ ही खाद्य सामग्री में 2 किलो दाल, 2 किलो आलू, 1 किलो प्याज़ एवं 1 लीटर तेल शामिल है। 1 किट की अनुमानित लागत 500 रुपए है।
वितरण हेतु परिवारों के चयन में विधवा एवं महिला मुखिया गरीब परिवार, दिव्यांग गरीब परिवार, बेसहारा, असहाय बृद्ध परिवार, पात्रता पर्ची विहीन गरीब परिवार, भूमिहीन, दिहाडी मजदूर, बैगा परिवार को प्राथमिकता दी जाएगी। निष्पक्षता बरतने तथा बेवजह राजनैतिक हस्तक्षेप से बचने के लिये उक्त परिवारों के चयन की कार्यवाही ग्राम पंचायत स्तर पर गठित संबंधित हल्का पटवारी, सचिव एवं ग्राम रोजगार सहायक की कमेटी करेगी।
 सांसद द्वारा समिति को संवेदनशील एवं निष्पक्ष रूप से परिवारों का चयन करने के निर्देश दिए गए हैं। वहीं कलेक्टर श्री चन्द्रमोहन ठाकुर स्वत: इस योजना की कमान संभालते हुए बारीक नजर बनाए हुए हैं ।
   श्री द्विवेदी ने कहा है कि  वी केयर योजना गरीबों , बेसहारा वर्ग के संरक्षण के लिये देश एवं विशेष रुप से मध्यप्रदेश के लिये रोल मॉडल साबित हो सकता है। यह गरीबों के प्रति हमारी संवेदनशीलता का परिचायक है। उम्मीद की जा रही है कि अनूपपुर जिले के चारों विकासखंड अनूपपुर, पुष्पराजगढ, कोतमा, जैतहरी में इसे सफलता पूर्वक लागू करने पर शहडोल संसदीय क्षेत्र के अन्य जिलों में भी सांसद श्री हिमाद्री सिंह द्वारा लागू करने का प्रयास हो सकता है। आम जनता वी केयर के द्वारा अतिरिक्त जरुरी वस्तुएँ मिलने पर सांसद तथा जिला प्रशासन की जमकर तारीफ कर रही है।

Post a Comment

0 Comments