Header Ads Widget

Responsive Advertisement

कोई भी पात्र वनाधिकार पट्टे से नही हो वंचित- कलेक्टर

कोई भी पात्र वनाधिकार पट्टे से नही हो वंचित- कलेक्टर



रिपोर्ट  -  श्रीराम केवट अनूपपुर 8878567813


अनूपपुर/ जून 29, 2020



दावा निरस्त करने से पहले करें पुनर्विचार
निरस्त वनाधिकार दावों की संयुक्त दल करेगा जाँच

मनरेगा के तहत फलोद्यान के कार्य प्रारम्भ करने के कलेक्टर ने दिए निर्देश

प्रवासी श्रमिकों को कौशल आधारित रोज़गार उपलब्ध कराने हेतु सतत रूप से करें प्रयास
अनूपपुर/ जून 29, 2020

      निरस्त वनाधिकार दावों पर की जा रही कार्यवाही की समीक्षा के दौरान कलेक्टर चंद्रमोहन ठाकुर ने स्पष्ट किया कि वनाधिकार दावों को निरस्त करने से पूर्व एक बार पुनः विचार करें। निरस्त करने पर कारण स्पष्ट होना एवं भौतिक सत्यापन अवश्य होना चाहिए। आपने राजस्व, ग्रामीण विकास एवं वन विभाग के अधिकारियों के संयुक्त दल को प्रकरणो का संयुक्त भ्रमण कर कार्यवाही करने के निर्देश दिए हैं। दल में राजस्व से एसडीएम, तहसीलदार अथवा नायब तहसीलदार, वन विभाग से एसडीओ फ़ारेस्ट, रेंजर एवं ग्रामीण विकास विभाग से सीईओ जनपद शामिल होंगे। आपने स्पष्ट किया कि कोई भी पात्र वनाधिकार पट्टे से वंचित नही होना चाहिए।

       कलेक्टर श्री ठाकुर समय सीमा की साप्ताहिक समीक्षा बैठक में चिन्हित विषयों, सीएम हेल्पलाइन प्रकरण, लोक सेवा गारंटी अधिनियम में अधिसूचित सेवाओं के प्रदाय की स्थिति की समीक्षा के दौरान सम्बंधित अधिकारियों को निर्देशित कर रहे थे। बैठक में मुख्य कार्यपालन अधिकारी ज़िला पंचायत मिलिंद नाग़देवे सहित विभिन्न विभागीय अधिकारी चरणबद्ध रूप से शामिल हुए।

       कलेक्टर ने मनरेगा के तहत सतत रूप से कार्य चालू रख अधिक से अधिक लोगों को नियोजित करने के निर्देश दिए। आपने कहा मानसून को दृष्टिगत रखते हुए फलोद्यान के कार्य प्रारम्भ किए जाए। इस दौरान सीईओ ज़िला पंचायत मिलिंद नाग़देवे ने बताया कि वर्तमान में लगभग 45 हज़ार लोगों को मनरेगा के तहत प्रतिदिन कार्य उपलब्ध हो रहा है।

     प्रवासी श्रमिकों की स्किल मैपिंग की समीक्षा के दौरान यह बात सामने आयी कि अब तक पंजीकृत 3644 श्रमिकों में से सिर्फ़ 20 प्रतिशत की स्किल मैपिंग का कार्य पूर्ण हुआ है। जिस पर असंतोष व्यक्त करते हुए, कलेक्टर द्वारा सम्बंधित अधिकारियों को उक्त कार्यवाही प्राथमिकता के साथ पूर्ण करने के निर्देश दिए गए। इसके साथ ही आपने श्रम, उद्योग विभाग एवं निर्माण एजेंसी के अधिकारियों को सम्बंधित पंजीकृत नियोक्ताओं को स्थानीय प्रवासी श्रमिकों को नियोजित किए जाने हेतु प्रेरित करने के निर्देश दिए हैं। आपने कहा सम्बंधित नियोक्ताओं/ रोज़गार प्रदाताओं/ ठेकेदारों को अपेक्षित कौशल वाले प्रवासी श्रमिकों से सम्पर्क करने में सहयोग करें।

       बैठक में ग़ौशाला निर्माण कार्यों की अद्यतन स्थिति की समीक्षा के दौरान प्रगति संतोषजनक न पाए जाने पर कलेक्टर ने रोष व्यक्त करते हुए, सम्बंधित अधिकारियों को  शीघ्रता से कार्य पूर्ण करने के निर्देश दिए। कलेक्टर द्वारा खाद/ उर्वरक की उपलब्धता की समीक्षा के दौरान निर्देश दिए गए कि स्टाक की पर्याप्त उपलब्धता नियमित रूप से बनी रहे, इस हेतु सतत रूप से निगरानी रखें एवं व्यवस्थाएँ बनाए रखें।

      बैठक में सीएम हेल्पलाइन प्रकरणों की समीक्षा के दौरान आपने स्वास्थ्य एवं जनजातीय विकास विभाग के अधिकारियों को लम्बित प्रकरणो की बढ़ती संख्या को चिन्हित करते हुए विशेष ध्यान रखने के निर्देश दिए। इसके साथ ही ऊर्जा, ग्रामीण विकास एवं राजस्व विभाग की निराकरण की स्थिति संतोषजनक नही पाए जाने पर आपके द्वारा असंतोष व्यक्त किया गया एवं 1 सप्ताह के अंदर स्थितियों में सुधार लाने के निर्देश दिए गए। आपने सभी विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिए कि 100 दिवस से अधिक समय से लम्बित शिकायतों का शत प्रतिशत निराकरण करने हेतु कार्ययोजना बना कार्यवाही सुनिश्चित करें। बिना विचारण प्रकरण का अग्रेषण एवं स्पष्ट उत्तर न पाए जाने पर सम्बंधित विभागीय अधिकारी ज़िम्मेवार होंगे।

Post a Comment

0 Comments