Header Ads Widget

Responsive Advertisement

देश की सेवा-सहयोग में सदैव तत्पर महान विभूतियों व नारी शक्तियों का 📜सारस्वत सम्मान📜

🇮🇳देश की सेवा-सहयोग में सदैव तत्पर महान विभूतियों व नारी शक्तियों का 📜सारस्वत सम्मान📜क७न


रिपोर्ट -  श्रीराम केवट 8878567813




मानव-जीवन का मूल सिद्धांत है कि- "किसी भी जरूरतमंद की, असहाय की,  किसी-न-किसी रुप में, सेवा-सहयोग करना. जैसे- रक्तदान करना (विशेषकर अपने घर- परिवार- समाज के व्यक्ति के लिये), रोगी के लिये औषधि- खानपान की व्यवस्था, भूखे को अन्न, प्यासे को जल, वस्त्रहीन को वस्त्र, अशिक्षित को शिक्षा, निराश्रयी को आश्रय एवं जीविकाहीन को जीविकोपार्जन में सहयोग-साथ देना इत्यादि ही अत्यन्त उत्तम सेवा-सहयोग होता है. जो व्यक्ति नि:स्वार्थ भाव से दूसरों के हित में संलग्न रहते हैं, वही सच्ची सेवा-सहयोग होता है. ऐसा करने पर जीवन में सच्चे सुख का अनुभव होता है. आप भी इसे अपने कार्य रुप में परिणीत करेंगे तो सच्चे सुख के आनन्द में विभोर हो उठेंगे."
इन्हीं भावनाओं को चरितार्थ करते, हमारे देश की महान विभूतियों, देवात्माओं, मातृशक्तियों से प्रत्यक्ष- अप्रत्यक्ष संपर्क, सहयोग, सानिध्य प्राप्त कर, हमें आप सबका सारस्वत सम्मान करने का सुअवसर प्राप्त हुआ है.
*⛑️मां नर्मदा स्वास्थ्य सेवा व लोक-सेवा समिति ®️⛑️*
द्वारा २७.०६.२०२०, शनिवार: मां ताप्ती गंगा जयंती व मधुमेह (डायबिटीज) जागृति दिवस, आषाढ़ शुक्ल सप्तमी पर- *देश के अतिविशिष्ट सामाजिक सेवकों-सेविकाओं, भामाशाहों, देवात्माओं, स्वास्थ्य व रक्त- वीरों- वीरांगनाओं; पुरुष-१७ व महिला-१२, कुल-२९ का  छटवीं बार सारस्वत सम्मान* किया गया है.

सम्मानित होने वाली विभूतियों में-
*1️⃣मप्र की सम्मानित विभूतियाँ*
१- *रक्त-भामाशाह: समाज-रत्न* श्री प्रकाश ओचानी जी, शहडोल,
२- *पत्रकार-रत्न*, रक्तवीर श्री मुकेश मिश्रा जी, अनूपपुर,
३- श्री संजय चौधरी जी, बुढ़ार, शहडोल,
४- श्री सम्यक जैन जी,
बुढ़ार, शहडोल,
५- श्री राहुल तिवारी जी, जबलपुर व
६- श्री जितेन्द्र कुमार पाण्डेय जी, कटंगा, जबलपुर.

*2️⃣मप्र की सम्मानित नारी विभूतियाँ*
७- श्रीमती अलका शुक्ला जी, छिंदवाड़ा,
८- श्रीमती प्रीति सोलंकी जी, रतलाम,
९- श्रीमती प्रतिमा जैन जी, बुढ़ार, शहडोल,
१०- सुश्री अर्चना मिश्रा जी, बिजुरी, अनूपपुर,
११- सुश्री दिशा अग्रहरी जी, निवारगंज, जबलपुर,
१२- श्रीमती सीता राठौर जी, अनूपपुर, व
१३- सुश्री आफरीन खान जी, पनागर, जबलपुर.

*3️⃣ छग की सम्मानित विभूतियाँ*
१४- श्री जितेन्द्र कारिया जी, दुर्ग, *देहदानी (दधीचि)*,
१५- सुश्री टिलेश्वरी साहू जी, पुरी, धमतरी,
१६- श्री रूपेश शुक्ला जी, बेलटुकरी, बिलासपुर व
१७- श्री रोशन लाल साहू जी, लिंगियाडीह, बिलासपुर.

*4️⃣ राजस्थान की सम्मानित विभूतियाँ*
१८- *रक्तवीर-भामाशाह: समाज-रत्न* श्री रमेश चन्द्र मेहता जी, उदयपुर,
१९- *पर्यावरण-सखी: नारी-रत्न* सुश्री दिव्या कुमारी जैन जी, कोटा,
२०- श्रीमती सुनीता शर्मा जी, बूंदी व
२१- सुश्री डॉ॰ शिप्रा चैनानी जी, उदयपुर.

*5️⃣ कर्नाटक की सम्मानित विभूतियाँ*
२२- श्री चिरंजीलाल कुमावत जी, मैसुरू,
२३- श्री देवेन्द्र परिहारिया जी, बोगादी- मैसुरू,
२४- *गौपुत्र: समाज-रत्न* श्री प्रकाश राठौड़ जी, दोरनडी, सोजत-पाली, राजस्थान / बैंगलोर व
२५- श्री विकाश राठौड़ (मोदी) जी, सोजत- पाली, राजस्थान / मैसुरु.

*6️⃣ उत्तरप्रदेश, उत्तराखण्ड, बिहार व गुजरात की सम्मानित विभूतियाँ*
२६- श्रीमती डॉ॰ ममता स्वर्णकार (रक्तकर्णिका) जी, उरई, जालौन, उप्र, *देहदानी (दधीचि)*
२७- जनाब मोहम्मद आरिफ (अली भाई) जी, रुद्रपुर, उधमसिंहनगर, उत्तराखण्ड,
२८- *पत्रकार-रत्न* श्री निशांत राज जी, मोतिहारी, बिहार व
२९- श्री धीरज कुमार मंत्री (माहेश्वरी) जी, दहेगाव‌, गांधीनगर, गुजरात;

का "प्रशस्ति-पत्र"
व "सम्मान-पत्र" आनलाइन डिजिटली भेजकर, विभिन्न उपाधि से, सारस्वत-सम्मान किया गया.

ज्ञातव्य है कि इसके पूर्व भी-
१- प्रथम बार २६.०४.२०२०- अक्षय तृतीया व भगवान परशुराम प्राकट्योत्सव पर मप्र व छग की सात अतिविशिष्ट सामाजिक सेविकाओं, स्वास्थ्य व रक्त-वीरांगनाओं का,
२- ०२.०५.२०२०: जानकी जयन्ती (सीता नवमी) को द्वितीय बार मप्र, छग, उड़ीसा, पंजाब, हरियाणा व राजस्थान की छ: अतिविशिष्ट सामाजिक सेविकाओं, स्वास्थ्य व रक्त-वीरांगनाओं का,
३- १५.०५.२०२०: अन्तर्राष्ट्रीय परिवार दिवस को तृतीय बार मप्र, छग, पश्चिम बंगाल व महाराष्ट्र के २१ पुरुष व ७ महिला, कुल २८ सम्मानित विशिष्ट सामाजिक सेवकों- सेविकाओं, स्वास्थ्य व रक्त- वीरों व वीरांगनाओं
का,
४- ३१.०५.२०२०: रानी अहिल्या बाई होल्कर जयन्ती व महेश नवमी को चौथी बार मप्र, छग, पश्चिम बंगाल, उड़ीसा, उत्तर प्रदेश व राजस्थान  के १७ पुरुष व २१ महिला, कुल ३८ सम्मानित, विशिष्ट सामाजिक सेवकों- सेविकाओं, स्वास्थ्य व रक्त- वीरों व वीरांगनाओं का व
५- १४.०६.२०२०: विश्व रक्तदान दिवस को पांचवीं बार मप्र, छग, पंजाब, आंध्रप्रदेश के २७ पुरुष रक्तवीरों व ११ महिला रक्त-वीरांगनाओं, कुल- ३८ का;
"प्रशस्ति-पत्र व सम्मान-पत्र" आनलाइन डिजिटली भेजकर, सारस्वत-सम्मान किया गया था.
प्रभु आप सबका सर्वतोभद्र मंगल करें. आप हमारे प्रेरणाश्रोत बन निरन्तर मार्गदर्शन प्रदान करते हुये, हम सबके प्रति अगाध-निष्ठा, प्रेम व श्रद्धा का उदय करते हुये, हमें गौरवान्वित कर, हमारे जीवन को सफल बनाने में, पूर्ण सहायक सिद्ध हों, हमें आपके द्वारा आयोजित क्रियाकलापों से आत्मालोचन का अवसर व आभास हो, हम सब दिनों-दिन सेवा-सहयोग कल्याण के सशक्त माध्यम बनें, प्रगतिन्नोति हो, सर्वतोमुखी समृद्धि हो; यही हमारी मंगल-कामना, आकांक्षा व सद्भावना है.
आप सभी के श्रीचरणों में हमारा शत्-शत् प्रणाम, नमन, वंदन, अभिनन्दन......

आगामी सातवाँ सम्मान समारोह, २७.०७.२०२०, सोमवार- गोस्वामी तुलसीदास जयन्ती व डॉ॰ए.पी.जे.अब्दुल कलाम पुण्यतिथि को, आनलाइन डिजिटल स्वरूप में ही होगा.

Post a Comment

0 Comments