Header Ads Widget

Responsive Advertisement

ए.एस.आई ने नहीं सुनी फरियाद, उल्टा पीड़िता को लॉकअप पर बंद करने की धमकी

 पुलिस कप्तान की फटकार के बाद पीड़िता की शिकायत पर आरोपित व्यक्ति के विरुद्ध हुआ मामला दर्ज, आरोपित व्यक्ति की गिरफ्तारी पर आज भी टालमटोल,  वर्तमान में भालूमाडा़ थाने पर कोई नहीं पदस्थ  पुलिस महिला अधिकारी, राम भरोसे चल रहा कानून व्यवस्था का कार्य


कोतमा -11 सितंबर 2020

 जिले के थाना भालूमाड़ा अंतर्गत जमुना कॉलरी में नशे में चूर एक कॉलरी कर्मचारी दरिंदे ने 22 वर्षीय किशोरी के साथ छेड़ छाड करने का मामला आया प्रकाश में।पीड़िता किशोरी 07 सितम्बर 2020 को शाम लगभग 6:30 बजे अपने घर के बाहर बैठी हुई थी तभी कॉलोनी का ही दशरथ वर्मा अचानक नशे में धुत्त होकर वहां आया और पड़ोस में रहने वाली सुनीता सोनकर को अभद्र गाली गलौज करने लगा।नशे में चकना चूर दशरथ वर्मा की हरकतें देख कर पीड़िता अपने पड़ोसी सुनीता सोनकर को लेकर अंदर आंगन की ओर गई। तभी नशेड़ी दरिंदा गलत नियत से पीछे पीछे आया। शिकायतकर्ता का गलत नियत से हाथ पकड़ कर अश्लील बाते कर,छेड़छाड़ करने लगा।

लोगो को आता देख भाग खड़ा हुआ दरिंदा -

दशरथ वर्मा कॉलरी कर्मचारी जो 5/6 जमुना खदान यूजी में ड्रिलर सपोर्टर के पद पर पदस्थ है उससे अपना हाथ छोड़कर भागने का प्रयास करने लगी और हो हल्ला कर चिल्लाने लगी। तभी दरिंदा दशरथ वर्मा ने पीड़िता का मुंह दबाने लगा,पीड़िता अपना हाथ छुड़ाने व अपने बचाव के लिए एक हाथ से मारने लगी।नशे में चूर अश्लील बाते करते हुए गाली गलौज कर जान से मारने की धमकी देने लगा। और दशरथ वर्मा कहने लगा कि मुझे खुश कर दो मै तुम्हे भी खुश कर दूंगा, पैसे से इतना माला माल कर दूंगा कि तुम कभी सोच नहीं सकती। हल्ला सुनकर मोहल्ले के लोग पहुंचे तो लोगो को आता देखकर पीड़िता का हाथ छोड़कर भाग खड़ा हुआ।

पीड़िता के साथ थाने में ए एस आई ने की अभद्रता -

22 वर्षीय किशोरी बालिका अपने परिवार सहित पड़ोसियों के साथ जब भालूमाड़ा थाने में शाम लगभग 7:30 बजे पहुंचकर अपनी पीड़ा सुनाई और दशरथ वर्मा के विरुद्ध कार्यवाही करने की बात कही तो थाने में पदस्थ एक ए एस आई ने पीड़िता को ही जमकर फटकार लगा दी। पीड़िता ने आरोप लगाते हुए बताया कि भालूमाड़ा थाने में पदस्थ ए एस आई सलीम खान ने पीड़िता को फटकार लगाते हुए कहा कि तुम्हारे साथ किसी प्रकार की छेड़ छाड़ नहीं हुई है थाने से भाग जाओ नहीं तो तुम्हे एवं तुम्हारे साथ आए हुए लोगों को भी लॉकअप में बेड दूंगा।और तुम्हारी शिकायत नहीं लिखी जाएगी जिसके पास जाना हो चली जाओ तुम्हारी शिकायत झूठी है। मेरी शिकायत तुम्हें जहां करना है कर दो मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता ऐसे डांट फटकार वीरता को लगाई जा रही थी क्यों जैसे पीड़िता ने कोई स्वयं अपराध किया हो और अपराधी को बचाने का ए एस आई द्वारा खेल खेला जा रहा था। 

पुलिस अधीक्षक से पीड़िता ने लगाई न्याय की गुहार, हुआ मामला दर्ज -

जब खाकी वर्दी देशभक्ति जनसेवा की कसम खाने वाले स्थानीय थाने के एक ए एस आई पुलिसकर्मी को न्याय देने के बजाय उसे डांट फटकार कर लॉकअप में बंद करने की धमकी देने लगे और अपराधियों का पक्ष लेकर कार्यवाही न करने की बात कहे तो फिर ऐसे में कैसे पुलिस प्रशासन व खाकी वर्दी पर न्याय का भरोसा रहेगा।जमुना कॉलरी निवासी की रिपोर्ट ना लिखने पर पुलिस अधीक्षक,अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक एवं एसडीओपी कोतमा से फोन पर शिकायत कर न्याय की लगाई गुहार। उच्च अधिकारियों की फटकार के बाद स्थानीय पुलिस हरकत में आई और पीड़िता की शिकायत पर अपराध क्र.0304/2020 धारा 294,323,354,506 आईपीसी के तहत मामला दर्ज कर मामले की विवेचना की जा रही है।


समझौते के लिए नेता जी डाल रहे डोरे -


जमुना कॉलरी वार्ड नं 01 निवासी पीड़िता के पिता ने 08 सितम्बर 2020 को भालूमाड़ा थाने में लिखित शिकायत करते हुए बताया कि मेरी बच्ची के साथ छेड़ छाड़ करने वाले दशरथ वर्मा के विरुद्ध दर्ज मामले को लेकर सुरेन्द्र सिंह लगभग दोपहर 1:30 बजे मेरे घर आया और शिकायत वापस लेने की बात कहने लगा।मेरे द्वारा समझौते से इनकार करने पर धमकी देने लगा कि अपनी बच्ची की शिकायत वापस नहीं लिए तो दशरथ की पत्नी से तुम्हारे नाम से छेड़ छाड़ एवं एससी एसटी एक्ट का मुकदमा दर्ज करवा दूंगा तुम्हारी बाकी की ज़िन्दगी जेल में कटेगी।तुम्हारी लड़की जो कल रिपोर्ट की है वह कब गायब हो जाएगी तुम्हे हवा तक नहीं लगेगी और उसकी डेडबोडी कहा मिलेगी पता नहीं चलेगा। सुरेंद्र सिंह नेता की यह धमकी सुनकर पूरा परिवार डरा एवं सहमा हुआ है।वहीं अब तक आरोपित व्यक्ति दशरथ वर्मा जमुना कॉलरी निवासी की गिरफ्तारी न होने से परिवार के साथ कोई भी अनहोनी घटना घटित हो सकती है।स्थानीय पुलिस आरोपित व्यक्ति को अभयदान देकर कोरोना का बहाना बताकर गिरफ्तारी नहीं की जा रही है वहीं आरोपित व्यक्ति की पत्नी पीड़िता परिवार को बार बार पुलिस को पैसे देकर गिरफ्तारी न होने देने की बात कही जा रही है।


                       कहना है 

आरोपित व्यक्ति को जल्द ही गिरफ्तार किया जाएगा,किसी भी अपराधी को ऐसे गंभीर मामलों में बख्शा नहीं जाएगा चाहे वह जो भी हो, मै तत्काल प्रभारी से गिरफ्तारी को लेकर बात करता हूं - अभिषेक राजन अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अनूपपुर

Post a Comment

0 Comments