Header Ads Widget

Responsive Advertisement

श्रीराम जन्मभूमि मन्दिर निर्माण के साथ भारत का नवोत्थान प्रारंभ - आलोक सिंह

श्री राम जन्मभूमि मन्दिर निर्माण संपर्क महाअभियान कार्यालय का हुआ शुभारंभ

अनूपपुर / 5 जनवरी 2020



अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि मन्दिर निर्माण में जन - जन की सहभागिता सुनिश्चित करने के लिये देश भर में श्रीराम जन्मभूमि मन्दिर निर्माण  संपर्क महाअभियान चलाया जा रहा है। इसे गति प्रदान करने के लिये जिला मुख्यालय अनूपपुर में जिला कार्यालय  का शुभारंभ 5 जनवरी 2021, मंगलवार को आचार्यों द्वारा मंत्रोच्चारण , पूजा - अर्चना के साथ सैकड़ों श्रद्धालुओं की उपस्थिति में किया गया।

 प्रात: 10.30 बजे विवेकानंद स्मार्ट सिटी, अनूपपुर में अभियान के शहडोल विभाग प्रमुख आलोक सिंह , राकेश द्विवेदी जी ,  अरविन्द तिवारी, वीरेन्द्र जी दाहिया, राकेश शुक्ला,  सुरेन्द्र भदौरिया, पंकज मिश्रा, राजेन्द्र तिवारी,विवेक बियाणी, राकेश गुप्ता,हरिशंकर वर्मा, अभिषेक सिंह, नमो एप के संभागीय संयोजक मनोज द्विवेदी,  डा देवेन्द्र तिवारी के साथ सैकडों श्रद्धालुओं , राम भक्तों की उपस्थिति में आयोजित श्रीराम जन्मभूमि मन्दिर निर्माण महा अभियान जिला कार्यालय का  शुभारंभ मंत्रोच्चारण के साथ आचार्य वैद्यनाथ शुक्ला, पं अजय शास्त्री, पं आनंद राम गौतम के साथ पुरोहितों ने भगवान श्री राम जी की पूजा अर्चना के साथ किया गया।



इस अवसर पर लोगों को संबोधित करते हुए महासंपर्क अभियान विभाग प्रमुख आलोक जी ने कहा कि श्रीराम जन्मभूमि मन्दिर निर्माण संपर्क महाअभियान से जुडा प्रत्येक व्यक्ति अत्यंत सौभाग्यशाली है। पन्द्रहवी शताब्दी में मुगलों द्वारा श्री रामजन्मभूमि मन्दिर के विंध्वस के साथ भारत का वैभव गर्त में चला गया। मन्दिर निर्माण के लिये दर्जनों पीढ़ियों ने अपनी जानें गंवाई।  

             हमारी पीढ़ी सौभाग्य शाली है कि हम अपने आराध्य भगवान श्री राम जन्मभूमि मन्दिर का निर्माण होता देखेंगे। इस मन्दिर के निर्माण मे देश के प्रत्येक हिन्दू का सहयोग सुनिश्चित करने के लिये संपर्क महाअभियान चलाया जा रहा है।उन्होने कहा कि  भगवान श्री राम का मन्दिर टूटने के साथ भारत का अधोपतन प्रारंभ हुआ। इसके बाद जब से गांव- गाँव शिलापूजन हुआ, तब से भारत का अभ्युदय प्रारंभ हुआ। विश्व के २२ से अधिक देशों में भगवान श्री राम को आराध्य मान कर उनकी पूजा करते हैं। मन्दिर का शिलापूजन पहले किया गया। देश  भर से सवा रुपये के दान से एकत्रित राशि से  साठ प्रतिशत पत्थर गढाई का कार्य पूर्ण हो चुका है।  सत्तर एकड जमीन हिन्दुओं को प्राप्त हो चुका है। तीन तल का एक सौ एकसठ फुट ऊंचा भव्य मंदिर निर्माण होगा। 

प्रत्येक व्यक्ति की दान की हुई प्रत्येक शिला मन्दिर में लगाई जाएगी। उन्होने बतलाया कि 

 जन भावनाओं ,आस्था के अनुरुप सत्तर एकड के परिसर में शोध केन्द्र , श्री राम जी के जीवन गाथा से जुडी प्रदर्शनी जैसे निर्माण होंगे। इसके माध्यम से मन्दिर के लिये संघर्ष के दौरान आहूत हुए लोगों के बारे में आने वाली पीढ़ियाँ जान सकेंगी।

देश के १४ करोड़ परिवारों तक एवं  महाकौशल प्रांत के २५ हजार से अधिक परिवारों तक संपर्क की योजना है। श्री सिंह ने कहा कि ध्यान रखें कि हमारे जीवन का यह बहुमूल्य समय है। हम अपने आने वाली पीढी को कैसा भारत सौंप कर देने वाले हैं, यह तय हो रहा है। भारत सक्षम, समर्थ, मजबूत होगा।

पूजन के मुख्य यजमान अशोक बियाणी, श्रीमती किरण बियाणी के साथ ओम प्रकाश द्विवेदी,राजेन्द्र बियाणी,दुर्गेन्द्र भदौरिया,गजेन्द्र सिंह,लक्ष्मण प्रसाद गौतम, आचार्य शशिकांत जी ,चन्द्रिका द्विवेदी, डा किरण अग्रवाल,मीना सोनी, पुष्पेन्द्र मिश्रा, दिनेश तिवारी, आनंद राम गौतम,हरिओम ताम्रकार, महेश गुप्ता,अजय मिश्रा, अभय पाण्डेय, सूरज तिवारी, नानू गुप्ता के साथ अन्य उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए राजेन्द्र तिवारी ने श्रीराम जन्मभूमि मन्दिर निर्माण संपर्क अभियान की विधिवत जानकारी देते हुए समाज के प्रत्येक वर्ग से सहयोग की अपील की। इस कार्यालय के शुभारंभ हो जाने के बाद आगामी 15 से 25 जनवरी तक प्रथम चरण का संपर्क महाअभियान प्रारंभ हो जाएगा।

Post a Comment

0 Comments