Header Ads Widget

Responsive Advertisement

ग्राम पंचायत पड़ौर मे गुणवत्ताहीन पुलिया निर्माण रेत की जगह लाल मिट्टी का प्रयोग कभी भी हो सकता है पुलिया धराशाई

ग्राम पंचायत पड़ौर मे गुणवत्ताहीन पुलिया निर्माण रेत की जगह लाल मिट्टी का प्रयोग कभी भी हो सकता है पुलिया धराशाई




अनूपपुर। जिले में मध्य प्रदेश सरकार द्वारा विकास कार्य करने के लिए बड़ी मात्रा में राशि जिले में दी जाती है लेकिन अनूपपुर जिले में बैठे जिम्मेदार लोग इस राशि का उपयोग गुणवत्ता विहीन निर्माण कार्य कर राशि का बंदरबांट कर घटिया निर्माण करते हैं ऐसा ही एक मामला अनूपपुर जनपद के ग्राम पंचायत पडौर का है। प्रभारी सचिव जीआरएस लिखीराम केवट सरपंच पति बालकरण सिंह और ठेकेदार के मिलीभगत से बैगन टोला मे भारत सिंह के घर के पास लगभग 14 से 15 लाख लागत से गुणवत्ताहीन पुलिया निर्माण हो रहा है।

रेत की जगह लाल मिट्टी का प्रयोग- जनपद मुख्यालय में बैठकर उपयंत्री,एसडीओ और ग्राम पंचायत भवन में बैठकर सरपंच, सचिव निर्माण कार्यों को गति देने का काम कर रहे हैं उपयंत्री मौके पर पहुंचकर निरीक्षण नहीं करते मनमाफिक ढंग से निर्माण कार्य बदसूरत जारी है। जिससे गुणवत्ता पर सवाल उठना लाजिमी है। सरपंच सचिव की मिलीभगत से कार्य को ठेकेदार के माध्यम से कराया जा रहा है जिसमें ग्रामीणों ने बताया कि पास से ही लाल मिट्टी सीमेंट में मिलाकर पुलिया का निर्माण किया जा रहा है

गौरतलब है की सरपंच, सचिव,उपयंत्री की लापरवाही के चलते गुणवत्ता विहीन की पुलिया निर्माण ठेकेदार के द्वारा किया जा रहा है कुछ ग्रामीणों ने बताया कि मनमाफिक ढंग से पुलिया का निर्माण कार्य हो रहा  है जिससे पुलिया कभी भी धराशाई हो सकती है  अब देखना होगा की पुलिया निर्माण की गुणवत्ता को लेकर जिले के जिम्मेदार क्या कार्यवाही करते हैं।

इनका कहना है।
संबंधित मामले में जब उपयंत्री नेहा सिंह से संपर्क किया गया तो इनके द्वारा फोन रिसीव नहीं किया गया। और एसडीओ अभिषेक श्रीवास्तव का नंबर कवरेज क्षेत्र से बाहर बता रहा था।

नोट - अगले अंक मे पढिये प्रभारी सचिव जीआरएस ने अमृत सरोवर मे कैसे लिखी भष्टाचार की दास्तान और फर्जी से कमाये लाखो


Post a Comment

0 Comments