Header Ads Widget

Responsive Advertisement

जिले के 46 संकुलों के 92 शालाओं का हो रहा कायाकल्प

अनूपपुर मॉडल की प्रदेश स्तर पर हुई सराहना 

अनूपपुर ।



जिला प्रशासन की पहल पर जिले के 46 संकुल के 92 शालाओं में विभागीय परिसंपत्तियों के संधारण अंतर्गत मरम्मत का कार्य कराया जा रहा है। अब तक 25 विद्यालयों का कार्य पूर्ण कर लिया गया है। शेष परिसंपत्तियों के मरम्मत कार्य को 15 अगस्त 2023 तक पूर्ण किए जाने का लक्ष्य रखा गया है। सर्व शिक्षा अभियान अंतर्गत शाला प्रबंधन समितियों के माध्यम से मरम्मत योग्य शाला भवन, अतिरिक्त कक्ष/किचेन शेड, शौचालय एवं बाउण्ड्रीवाल के मरम्मत के कार्यों को किया जा रहा है। जिसमें जिला शिक्षा केन्द्र के तकनीकी अमले द्वारा मार्गदर्शन प्रदान करने के साथ ही मॉनीटरिंग भी सुनिश्चित की जा रही है।  

 अनूपपुर जिले के माध्यमिक शाला सिवनी के कार्य तथा पुताई एवं पेंटिंग के कार्य को प्रदेश स्तर पर सराहा गया है तथा इस कार्य को राज्य शिक्षा केन्द्र के निर्देश पर सिवनी के कलर कोड को पूरे प्रदेश में लागू करने के निर्देश भी जारी किए गए हैं। 

 जिले में शाला भवनों के मरम्मत के कार्य में शिक्षकीय स्टॉफ द्वारा भी अपने कैम्पस को सुन्दर बनाने के सार्थक प्रयासों में मदद की जा रही है। पुष्पराजगढ़ के सुदूर अंचल माध्यमिक शाला कोयलारी के प्रधानाध्यापक द्वारा स्वीकृत राशि के अतिरिक्त भी स्वयं से योगदान कर शाला भवन कैम्पस को सुदृढ़ किया गया है। जिससे शाला भवनों का कायाकल्प देखते ही बनता है।   

 उल्लेखनीय है कि कलेक्टर श्री आशीष वशिष्ठ की पहल पर जनजातीय कार्य विभाग के अंतर्गत संचालित 39 आश्रम एवं छात्रावासों में कायाकल्प कार्य के साथ ही वहां की सुविधाओं के वृद्धि के सार्थक प्रयास किए गए हैं।

Post a Comment

0 Comments