Header Ads Widget

Responsive Advertisement

पेसा एक्ट से ग्राम वासियों की उलझनें होगी दूर - रामलाल रौतेल

पेसा एक्ट से सरपंचों के अधिकार कम नहीं -- डा वीरेन्द्र व्यास

पेसा एक्ट मास्टर ट्रेनर्स की जिला स्तरीय कार्यशाला संपन्न

अनूपपुर ।



पेसा एक्ट को लेकर विपक्ष आम जनता के बीच भ्रम की स्थिति बनाने की कोशिश कर रहा है। ऐसे में यह आवश्यक है कि गाँव स्तर पर पहुंच कर लोगों में इस एक्ट को लेकर व्याप्त भ्रांतियों को दूर करें। कलेक्ट्रेट सभागार अनूपपुर में 4 अगस्त ,शुक्रवार को जन अभियान परिषद द्वारा पेसा एक्ट के मास्टर ट्रेनर्स की एक दिवसीय कार्यशाला में जिले भर से आए वालेंटियर्स को संबोधित करते हुए अनूपपुर के पूर्व विधायक, मप्र कोल विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष एवं कार्यशाला के मुख्य अतिथि रामलाल रौतेल ने उपरोक्त विचार व्यक्त करते हुए कहा कि जनजातीय क्षेत्रों में प्रदेश के लोकप्रिय मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की सरकार ने पेसा एक्ट लागू किया है। गाँव में पेसा समितियों के नोटिफाईड होने और समन्वय से कार्य करने पर तमाम उलझने और स्थानीय विवाद समाप्त होगें।

भोपाल से पधारे पेसा एक्ट विशेषज्ञ , निदेशक , सेल , म प्र जन अभियान परिषद एवं कार्यशाला के मुख्य वक्ता डा वीरेन्द्र व्यास ने सात सत्रों में मास्टर ट्रेनर्स को प्रशिक्षित किया। श्री व्यास ने प्रश्नोत्तरी शैली में मास्टर ट्रेनर्स को पेसा एक्ट की बारीकियों से अवगत कराया।ग्राम पंचायत और ग्राम सभा में अन्तर एवं ग्राम सभा गठन की सैद्धांतिक प्रक्रिया की जानकारी देते हुए गाँव मेडियारास में जाकर वहाँ के ग्रामीणों और मास्टर ट्रेनर्स के साथ प्रत्यक्ष रुप से ग्राम सभा के गठन एवं नजरी नक्शे के निर्माण का माडल प्रस्तुत किया। ग्राम सभा बैठक के संचालन ,ग्राम सभा के अधिकार पर विस्तार से प्रकाश डालते हुए डाक्टर व्यास ने कहा कि पेसा एक्ट लागू होने से सरपंच के अधिकार कम नहीं होंगे। भारत विकास परिषद के पूर्व अध्यक्ष एवं वरिष्ठ पत्रकार मनोज द्विवेदी ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि पेसा एक्ट से जुडी भ्रांतियां दूर होने और जमीनी स्तर पर लागू होने से बहुत से विवाद स्थानीय स्तर पर दूर हो जाएगें । जिसके कारण लोगों में एकजुटता और समरसता का भाव मजबूत होगा। जन अभियान परिषद के जिला समन्वयक उमेश पाण्डेय ने कार्यक्रम का कुशल संचालन करते हुए प्रथम सत्र को संबोधित करते हुए प्रशिक्षण के उद्देश्य एवं संक्षिप्त पृष्ठभूमि से अवगत कराया। पेसा एक्ट के जिला समन्वयक राजेश सिंह ने जिले के चार विकासखंड पुष्पराजगढ, जैतहरी, कोतमा, अनूपपुर की पंचायतों में पेसा एक्ट लागू करने के जमीनी तौर तरीकों पर प्रकाश डाला।पूर्व सरपंच एवं समाजसेवी तथा पेसा एक्ट के प्रदेश स्तरीय प्रशिक्षक अमोल सिंह ने अपने विचार व्यक्त किये।

म.प्र.पंचायत उपबंध (अनुसूचित क्षेत्रों पर विस्तार ) नियम 2022 के प्रचार-प्रसार एवं क्रियान्वयन में सहयोग हेतु कलेक्ट्रेट अनूपपुर में एक दिवसीय जिला स्तरीय प्रशिक्षण कार्यशाला में उक्त चार विकासखंडों के मास्टरट्रेनर्स शामिल हुए। प्रशिक्षण का आयोजन म.प्र.जन अभियान परिषद,जिला अनूपपुर के तत्वावधान में किया गया।

 मुख्य अतिथि रामलाल रौतेल, मुख्य वक्ता डॉ.वीरेंद्र कुमार व्यास , विशिष्ट अतिथि मनोज द्विवेदी, अमोल सिंह मार्को, जिला समन्वयक जन अभियान परिषद उमेश पांडे , जिला समन्वयक पेसा राजेश सिंह के साथ अन्य अतिथियों द्वारा भारत माता के छाया चित्र के समक्ष दीप प्रज्वलित कर कार्यशाला का शुभारंभ किया गया। सभी मंचासीन अतिथियों का पुष्पगुच्छ से स्वागत किया गया। डॉ. व्यास जी ने पेसा अधिनियम की पृष्ठभूमि एवं इतिहास पर विस्तार से जानकारी दी। ग्राम सभा बनेगी कैसे,चलेगी कैसे शीर्षक के तहत विस्तार से जानकारी दी। कार्यशाला में ब्लॉक समन्वयक एवं बी.पी.ओ, परामर्शदाता ,नवांकुर संस्था ,प्रस्फुटन समिति से चयनित मास्टर ट्रेनर्स उपस्थित थे। कार्यशाला में मेडियारास सरपंच रतन लाल कोल, उप सरपंच नर्मदा पटेल, मोहन सिंह सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

Post a Comment

0 Comments