Header Ads Widget

Responsive Advertisement

रेल्वे स्टेशन पहुंच मुख्य मार्ग में पानी भराव को लेकर स्थानीय लोगों ने पार्षद पवन कुमार चीनी की अगुवाई में स्टेशन प्रबंधन को सौंपा ज्ञापन

अनूपपुर। 



जिले के बड़े स्टेशनों में शुमार अमलाई स्टेशन जहां पर प्रतिदिन सैकड़ो की संख्या में यात्रियों का आना-जाना बना रहता है यहां पर प्लेटफार्म नंबर 4 के तरफ रेलवे की कॉलोनी स्थापित है इसके अलावा मुख्य मार्ग भी बना हुआ है लेकिन तीसरी लाइन के निर्माण के कारण भारी माल वाहक और मशीनरी के प्रयोग से पहले से बनी हुई रोड पूर्ण तरीके से धराशाई हो गई है इसके साथ ही पूर्व में पानी के बहाव के लिए बड़ी-बड़ी नालियों का निर्माण किया गया था,जो अब मिट्टी और तीसरी लाइन के निर्माण में पूरी तरह जमीदोज हो चुकी है इस कारण से रेलवे स्टेशन के समीप बने तालाब नुमा गड्ढे में बरसात का पानी लबालब भरा हुआ है, और यह पानी तीसरी लाइन जो अभी निर्माण हुई है वहां तक रेलवे लाइन को प्रभावित कर रही है ऐसा ना हो कि पानी के रिसाव के कारण तीसरी लाइन ही क्षतिग्रस्त हो जाए और बड़ी दुर्घटना घटना घटित होने के बाद रेलवे प्रशासन इस पर सिर्फ जांच खड़ा करें, इसके अलावा यहां पर रेलवे की कॉलोनी, आम नागरिक, ऑटो स्टैंड के साथ-साथ प्रतिदिन सैकड़ो की संख्या में आने जाने वाले यात्रियों के आवागमन पर विराम लग चुका है ,साथ ही अमलाई कॉलोनी और रेलवे की कॉलोनी की नाली आपस में जुड़ी हुई है जिसका पानी अब लोगों के घरों में वापस आने लगा है क्योंकि तीसरी लाइन के कारण अमलाई पुराने पोस्ट ऑफिस से लेकर धनपुरी मुख्य मार्ग रेलवे के मार्ग को जोड़ने वाली तिराहे तक बरसात का पानी लबालब भरा हुआ है इसके अलावा रेलवे का पूरा मार्ग क्षतिग्रस्त हो चुका है एक तरफ देश के सबसे प्रसिद्ध कागज का कारखाना वही मिनी रत्न के नाम से प्रसिद्ध कोयलांचल क्षेत्र के यात्रियों को अपनी जान जोखिम में डालकर तालाब को पार करके रेलवे स्टेशन तक पहुंचने पर मजबूर हो रहे हैं इस बात को लेकर क्षेत्रीय जनप्रतिनिधि, ऑटो संघ, और नवयुवकों के द्वारा आज अमलाई स्टेशन मास्टर को ज्ञापन सौंप कर जल्द से जल्द बंद हो चुके मार्ग को नव निर्माण के साथ चालू करवाए जाने का ज्ञापन सौंप कर अपनी बात रखी है l

कभी भी हो सकता है बड़ा हादसा - अमलाई प्लेटफार्म नंबर 4 रेलवे की मुख्य मार्ग इस कदर दुर्गति पर है कि कभी भी यहां आने जाने वाले यात्रियों स्कूली बच्चों के अलावा, रेलवे के तीसरी मार्ग पर कोई बड़ी घटना घट जाए तो बड़ी बात नहीं है क्योंकि रेलवे के मार्ग से लगे हुए तालाब नुमा बड़े गड्ढे पर बहुत ज्यादा पानी भरा हुआ है जिसका पानी रेलवे के मुख्य मार्ग पर फैला हुआ है अगर स्कूली वैन बच्चे या यात्रियों से भरी ऑटो पलट जाए तो निश्चित रूप से लोगों की जान चली जाएगी वही पानी के रिसाव के कारण रेलवे की तीसरी लाइन भी क्षतिग्रस्त हो सकती है इससे लाखों करोड़ों का नुकसान रेलवे प्रशासन को होगा इसके अलावा जमीदोज हो चुके नालियों के कारण गंदे पानी का निकासी पर विराम लग चुका है और अब लोगों के घर घरों से निकलने वाला गंदा पानी वापस उन्हीं के घर में घुस रहा है जिससे संक्रमित बीमारी की संभावना भी बढ़ चुकी है।

अव्यवस्थाओं से यात्रीगण परेशानतीसरी लाइन नव निर्माण के समय से आज तक प्लेटफार्म नंबर 4 की दिशा की ओर बिगड़े हुए हालातो को लेकर किसी भी प्रकार से किसी अधिकारी के द्वारा भ्रमण नहीं किया गया है इतने बड़े निर्माण कार्य पर ध्यान न देते हुए अधिकारी भी लोगों की जान से खेलने में कोई कोटा ही नहीं बरत रहे हैं क्योंकि निर्माण कार्य का जायजा लेना और उनके नुकसान की भरपाई के संसाधन तलाशना भी साइट पर आने वाले इंजीनियर और अधिकारियों साथी ऑफीसरों का काम है प्रतिदिन सैकड़ो की संख्या में रेलवे की लाइन पर कार्य करने वाले अपने मजदूरों से ही अधिकारी गण पूछ ले स्टेशनों के हालात तो उन्हें सच्चाई का पता चल जाएगा इसके अलावा रेलवे की कॉलोनी की नालियों पर कई महीनो से तीसरी लाइन की मिट्टी धसने के कारण पानी का जमाव हो रहा है लेकिन आज तक हमारे देश के प्रधानमंत्री के सबसे बड़े सपने स्वच्छ भारत मिशन को तार-तार करने में कमी भी नहीं कर रहे हैं। जबकि बिलासपुर और जबलपुर के बीच रेलवे को आए देने वाली दूसरी या तीसरी स्टेशनों की गिनती में आती है क्योंकि यहां पर ओरिएंट पेपर मिल कागज का कारखाना साथ ही मध्य प्रदेश विद्युत ताप मंडल का औद्योगिक फैक्ट्री होना साथ ही एसईसीएल कोल माइंस होने के कारण भारी संख्या में लोगों का आना-जाना बना रहता है और बड़े स्टेशनों की तरह आई का केंद्र रहता है इसके बावजूद भी बड़े रूप में अवस्थाओं का सामना करना पढ़ रहा है अगर अधिकारी अपना दायित्व निभाते तो स्टेशन साफ सुथरा नजर आता।

 यह रहे उपस्थित - अमलाई स्टेशन के जर्जर मार्ग के अलावा अन्य अव्यवस्थाओं से फैली अमलाई स्टेशन की मार्ग को सुधारने के लिए क्षेत्रीय जनप्रतिनिधि पार्षद पवन कुमार चीनी, समाजसेवी संदीप पुरी,पार्षद सुंदर बाई विश्वकर्मा, रोहित विश्वकर्मा,राकेश सिंह, अरविंद साहनी, संजय ओटवानी, संतोष टंडन, मयंक सिंह, पार्षद किरण संजय मौर्य हरी पाल मौर्य, पार्षद अर्चना अजय यादव, राजेश यादव, जीतू गुप्ता, सोनू पनिका, रवि दुबे, विनय यादव, मोंटी पनिका, शारदा गुप्ता, मनीष वाधवानी, सनी गुप्ता,दीपक राय, हीरालाल, पंकज भारती, कृष्ण प्रजापति, टीपू सुल्तान, सतवंत, रज्जाक, करण, अजय डोडानी, संजय डोडानी, संजय दाहिया, अमित द्विवेदी सहित अमलाई नगर के समाजसेवी व जन प्रतिनिधि उपस्थित रहे ।

Post a Comment

0 Comments