Header Ads Widget

Responsive Advertisement

छुलकारी बांध के नहर सफाई के नाम से विभाग लाखो रूपए किया चपत

जैतहरी/ दीपक केवट 



जिले के जैतहरी जनपद अंतर्गत ग्राम पंचायत कोलमी के छुलकारी बांध के नहर साफ सफाई के लिए जल संसाधन विभाग के द्वारा 5 लाख 80 हजार रुपए स्वीकृत है|जिसे जिम्मेदारो के मिली भगत से फर्जी मजदूरों के खाते में पैसा डालकर अवैध तरीके से निकासी किया जा रहा है ऐसा नहीं की काम नहीं चल रहा लगातार पूरे बरसात काम चला है परंतु 15 से 20 मजदूरों के खाता मे बिना काम किए ही अवैध तरीके से पैसा आहरण किया गया| जबकि 9से10 मजदूर काम पर रहते हैं वही Nmms (मोबाइल मार्केटिंग सिस्टम में 40 या अधिक मजदूरों का उपस्थिति दर्ज किया जाता है इस तरह से नहर सिंचाई के नाम से पूरे बरसात काम चला कर पैसा निकालना अनवरतन जारी है काम के नाम से केवल खानापूर्ति की गई|


नहर सफाई के नाम से सरकारी खजाने का हो रहा सफाई

बता दें नहर सफाई के नाम से सरकारी खजाने को जमकर लूटा जा रहा है क्योंकि 3 लाख से अधिक का कार्य कराया जा चुका है लेकिन काम जस के तस है जबकि जुलाई से लगातार काम अनवरवन जारी है। इतने दिनों में कहीं, कहीं घास फूस छिलवाकर एकाद जगह मेड में उगे झाड़ियां को कटवाया गया है नहर के मलबा व कीचड़ तो जस की तस पड़ा है। उल्लेखित है कि

भरी बरसात में लगातार काम के बहाने फर्जी मजदूरों के जरिए लाखों रुपए निकाल कर बंदर बाट कर लिया गया विभागीय अधिकारी के साथ गांठ वही देख रेख के अभाव में स्थानीय पंचायत कर्मचारी और गांव के अराजक तत्व की मदद से यह काम को अंजाम दिया जा रहा है। पंचायत कर्मचारी के सहभागिता से विभाग के अमले द्वारा खुलेआम धांधली करने का हौसला मिल रहा है। सूखे रीत में काम कराकर राशि का सदुपयोग करना चाहिए था किंतु बरसात में काम चला कर जमकर पैसा का दुरुपयोग कर शासन को पलीता लगाने का काम जोरों पर है।

पंचायत की भूमिका संदिग्ध

पंचायत प्रतिनिधि व सचिव इस मामले को लेकर चुप क्यों है जबकि मालूम है इस सीजन नहर में पानी भराव के कारण नहर में साफ सफाई का काम संभव नहीं है बावजूद काम का डिमांड लगा रही और बिना काम कराए लगातार पेमेंट भी करवा रही है अब तक 3 लाख से अधिक का भुगतान बिना मूल्यांकन के हो गया है| जबकि काम का नामोनिशान नहीं दिख रहा कहीं, कहीं घास फूस कटवा कर मेड को छिलवा दिया गया है साइन बोर्ड लगाए बिना ही शून्य काम पर लाखों रुपए का चपत अब तक इस काम में शासन को लग चुका है|

Post a Comment

0 Comments