Header Ads Widget

Responsive Advertisement

नदी के बीचों बीच बना दी सड़क, रेत कारोबारी अवैध उत्खनन कर राजस्व और पर्यावरण को पहुंचा रहे नुकसान

फुनगा/अनूपपुर- दिगम्बर शर्मा 



एक ओर जहां सरकार नदियों को बचाने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है तो वही दूसरी ओर अनूपपुर जिले में रेत कारोबारियों द्वारा नई रेत नीति का उलंघन कर नियम कानूनों को दरकिनार न केवल नदियों का स्वरूप बदल रहे बल्कि, नदी के बीचों बीच सड़क बना, स्वीकृत (निर्धारित) स्थल से रेत न निकाल कर दूसरे जगह से मशीन से रेत उत्खनन कर रहे हैं। राजस्व के साथ साथ पर्यवारण को नुकसान पहुंचा रहे हैं। लेकिन उन्हें ऐसा करने से कोई भी नहीं रोक रहा बल्कि उनके इस काम मे उनका साथ दे रहे हैं। मामला अनूपपुर जिले के स्वीकृत खदान मौहरी घाट का है यहां मौहरी घाट स्वीकृत है किंतु वहां से रेत की निकासी न कर छुलकारी कोलमी सोन नदी से रेत की धड्डले से निकासी की जा रही है। जिस पर खनिज विभाग भी लगाम लगाने में नाकाम नजर आ रहा है बीते दिनों गांव के ग्रामीणों ने इसका विरोध भी किया था।

जहां वे नियमविरुद्ध रेत निकाल राजस्व को चूना लगा रहे हैं जिससे पर्यावरण पर बुरा असर पड़ रहा है।कंपनी के द्वारा कुछ रेत खदानो में नियमविरुद्ध तरीके से नदी के बीचों बीच सड़क बनाकर नदी का स्वरूप बदल दिया है। नदी धार के बीच मशीन से रेत उत्खनन किया जा रहा, इतना ही नहीं स्वीकृत निर्धारित जगह से रेत न निकलकर अन्यत्र जगह से रेत निकाल रहे हैं। दिनदहाड़े नदी के भीतर हैवी मशीनों के साथ बड़े वाहन उतारे जा रहे हैं। खनन कारोबारियों ने नदी के बहाव का रास्ता भी बदल दिया है। इससे नदी का स्वरूप भी बिगड़ गया है। ग्रामीणों द्वारा कार्यवाही की मांग जिला प्रशासन से की गई है।

Post a Comment

0 Comments