Header Ads Widget

Responsive Advertisement

भालूमाडा केवई नदी रेत खदान के विरुद्ध भाजपा जिला मीडिया प्रभारी ने दर्ज की आपत्ति

नियम विरुद्ध हो रहे उत्खनन पर रोक लगाने की मांग

अनूपपुरदिवाकर विश्वकर्मा 



जिले के अंदर विभिन्न क्षेत्रों में संचालित रेत की खदानों को लेकर रेत ठेकेदार की मनमानी एवं नियम विरुद्ध किए जा रहे कार्यों के विरोध में भाजपा के जिला मीडिया प्रभारी राजेश सिंह ने आवाज उठाते हुए मुख्यमंत्री से लेकर जिला प्रशासन से कार्यवाही की मांग की है भालूमाडा केवई नदी में हो रहे नियम विरुद्ध खनन सहित कई बिंदुओं पर अपनी आपत्ति दर्ज करते हुए खदान के संचालन पर शीघ्र रोक लगाने की मांग की है भाजपा जिला मीडिया प्रभारी राजेश सिंह ने शिकायत दर्ज करते हुए नगर पालिका परिषद पसान क्षेत्र के भालूमाडा केवई नदी के आ. ख. नं. 1214 12 15 म रखवा 6.082 हेक्टर में रेत खदान का संचालन लोक जनसुनवाई आयोजित किए बिना ही मनमानी तरीके से रेत ठेका कंपनी एसोसिएट ऑमर्स के द्वारा एनजीटी एवं सिया के दिशा निर्देशों को दरकिनार करते हुए उत्खनन का कार्य प्रारंभ कर दिया गया है पर्यावरण एवं लोकहित को ध्यान में रखते हुए उचित कार्यवाही की मांग की गई है।


 लोक जनसुनवाई से पहले चालू हुई रेत खदान 


श्री सिंह ने आपत्ति दर्ज करते हुए कहा कि रेत खदान चालू होने से पहले लोक जनसुनवाई का आयोजन किया जाना था और स्थानीय लोगों की आपत्ति को सुनकर उसका निराकरण करना था लेकिन लोक जनसुनवाई आयोजित करने से पहले रेत खदान का संचालन क्यों और किसके आदेश पर किया गया दोषियों के विरुद्ध कार्रवाई की जाए।


एसईसीएल पंप हाउस एवं मुख्यमंत्री पेयजल योजना पर संकट 


श्री सिंह ने बताया की आ. ख. न. 1214 एवं 12 15 में संचालित रेत खदान के चंद कदमों की दूरी पर लगभग 500 मीटर दूर एसईसीएल जमुना कोतमा क्षेत्र का फिल्टर प्लांट स्थापित है तथा मुख्यमंत्री शहरी पेयजल योजना अंतर्गत ऐनीकट का निर्माण उसी स्थान पर किया जा रहा है सरकार के करोड़ों रुपए का प्रोजेक्ट रेत खदान के चंद कदमों की दूरी पर संचालित है रेत खदान से रेत के उत्खनन से यह प्रोजेक्ट पूरी तरह से प्रभावित हो सकता है। रेत खदान के संचालन से एसईसीएल एवं नगर पालिका पसान के दोनों पानी फिल्टर प्लांट बंद हो सकते हैं जो क्षेत्र के लिए चिंता का विषय है।

 मुख्यमंत्री शहरी पेयजल योजना अंतर्गत 33 करोड़ की लागत से निर्माणाधीन ऐनीकट एवं फिल्टर प्लांट प्रभावित होने से नगर पालिका पसान क्षेत्र की लगभग 20000 आबादी पानी पीने के लिए मोहताज हो जाएगी.


रोपवे बनाकर नदी को धारा को किया जा रहा प्रभावित


रेत ठेकेदार के द्वारा नदी के अंदर रोपवे बनाकर रेत का पानी के अंदर से बड़ी मशीनों का उपयोग कर रेत का उत्खनन किया जा रहा है जिससे नदी का स्वरूप बदला जा रहा है. रेत खदान संचालित होने से नदी के किनारे हजारों किसान गर्मी के दिनों में फल सब्जी लगाकर अपना जीवन निर्वाह करते हैं वह पूरी तरह से प्रभावित हो रहे हैं.


दिशा निर्देशों का नहीं हो रहा पालन 


एनजीटी एवं सिया के दिशा निर्देशों के अनुसार अभी तक वृक्षारोपण का कार्य रेत ठेकेदार के द्वारा नहीं किया गया स्कूल और चिकित्सालय में सोशल वेलफेयर फंड का उपयोग नहीं किया जा है खदान से रेत उत्खनन कर परिवहन किए जाने वाले मार्ग पर पानी का छिड़काव नहीं किया जा रहा है और ना ही वाहनों पर त्रिपाल का उपयोग किया जा रहा है जिससे प्रदूषण बढ़ रहा है और क्षेत्र के लोग परेशान हैं रेत ठेकेदार द्वारा रेत का उत्खनन करने के पश्चात परिवहन के लिए एसईसीएल जमुना कोतमा में क्षेत्र की सड़क का उपयोग बिना परमिशन के किया जा रहा है इसके रखरखाव और टूट की जिम्मेदारी सुनिश्चित की जाए। रेत उत्खनन क्षेत्र के आसपास जंगल विभाग की भूमि का उपयोग रेत ठेकेदार द्वारा किया जा रहा है जांच कर कार्रवाई की जाए तथा मनमाने दर पर रेत की बिक्री पर रोक लगाई जाए। कोतमा के गोहांड्रा में भूमि का बिना डायवर्शन किए ही रेत के भंडारण की अनुमति प्रदान की गई है जिसकी जांच कराई जाए भाजपा जिला मीडिया प्रभारी राजेश सिंह ने तमाम बिंदुओं पर अपनी आपत्ति दर्ज करते हुए मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव एवं अनूपपुर जिला प्रशासन से कार्यवाही की मांग की है जिससे कि पर्यावरण की सुरक्षा के साथ लोकहित सुनिश्चित हो सके

Post a Comment

0 Comments